Hindu Purohit Sangh
शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान
पंजीयन
पुरोहित चर्चा क्षेत्र
पुरोहित चर्चा क्षेत्र
हिन्दू धर्म
हिन्दू मन्दिर
हिन्दू वेद
हिन्दू शिशु नाम
हिन्दू पंचांग एवं पर्व
हिन्दू धार्मिक स्थल
पूजा सामग्री
विषय अनुसार चर्चा क्षेत्र

शीर्षक

पूजा विधि क्या होनी चाहिए ? The method of Worship generally adopted by Hindus.


विवरण

(फ़ॉन्ट संबंधित वर्तनी की गलतियों को नजरअंदाज करें) प्रातः उठते समय पहली बार फर्ष या जमीन में पांव रखते हुए ,पृथ्वी से क्षमा मांगते हुए बोलें:- ऊॅं समुद्र वसने देवी, पर्वत स्तन मण्डले । विश्णु पत्नि नमस्तुभयं । पादस्पर्ष क्षमस्व में ।। बाद ये ष्लोक बोलें:- उत्तिठोत्तिश्ठ गोविन्द उत्तिश्ठ गरूणध्वजः उत्तिश्ठ कमलाकान्तः त्रैलोक्यं मंगलम् कुरू: 2. मंगलम् भगवान विश्णु मंगलम् गरूणध्वजः । मंगलम् पुण्डरीकाक्ष मंगलाय तनोहरिः ।। 3. दोनों हथेलियों को एक साथ सामने लाकर देखें और (अग्रभाग को देखकर) बोलें - करागे्र बसते लक्ष्मी, (मध्यभाग को देखकर बोलें) कर मध्य सरस्वती, (मूल भाग को) करमूले स्थितो ब्रह्मा प्रभाते कर दर्षनम्ः। 4. ऊॅं ब्रह्मामुरारी त्रिपुरात्रकारी भानु षषी भूमि सूतो बुधष्च । ग्ुारूष्च षुक्र षनि राहु केतव, सर्वे गृहा षान्ति करा भवन्तु । नित्य पूजा की विधि:- दैनिक प्रार्थना मंत्र पूजा हेतु ईषान दिषा में मुखाकृति हो पूर्व व उत्तर के बीच या पूर्व दिषा में मुंह हो । आसन में बैठें । सामने कोई विग्रह हो दिया जलायें या केवल आसन में बैठें । स्थान न होने पर खडे़ रहें । जलाभिशेक करें:- अपवित्र पवित्रोवा सर्वावस्थां गतोपिवा । यः स्मुदे पुण्डरीकाक्ष सबाह्याभ्यन्तरसुचि ।। (कहते हुए जल के छींटे अपने ऊपर डालें) । जल ग्रहण करें (एक चम्मच) आचमन से । पांच बार धीरे से लम्बी सांस लें और धीरे से छोडे़ । हर बार मन में ऊॅं स्मरण करें। (अ) समयाभाव है तो केवल ”ऊॅं“ का उच्चारण करें । ऊॅं ईष्वर के सब नामों में उत्तम नाम है तथा इससे ईष्वर के सब नामों का बोध हो जाता है । (ब) एक मिनट की पूजा करनी है तो:- ऊॅं श्री गणेषाये नमः ।। एहि दुर्गे महाभागे, रक्षार्थ मम सर्वथा । आवाहयाम्यहम देवी, सर्वकामार्थ सर्वथा ।। या देवी सर्व भूतेशु दयारूपेण संस्थिता नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमोनमः ऊॅं नमः शिवाय (तीन बार) अकाल मृत्यु हरणं सर्वव्याधि विनाशनम् सूर्यपादोदक्र तीर्थं जठरे धारयाम्यहम। त्वमादि देवः पुरुषः पुराणः त्वमस्य विश्वस्य परम् निधानम्।वेत्तासि वैद्धम् च परं च धाम त्वया ततं विश्वमनन्त रूप।।वायुर्यमो अग्नि वरुणः शसांकः प्र्र्रजाप्रतिस्वां प्रपितामहष्च।नमो नमस्तेस्तु सहस्त्र कृत्व पुनष्च भूयोपि नमो नमस्ते ।। नमः पुरस्ता दत पृष्ट तस्ते नमोस्तुते सर्वत एव सर्व।अनन्तवीर्य मत विक्रमस्त्वं सर्व समाप्नोति ततोषि सर्व।।कायेन वाचा मनसैन्द्रियैर्वा बुद्ध आत्मना वा प्रकृति स्वभावात।करोमि यद्यत्सकलं परस्मै नारायणायेति समर्पयामि।। (स) पांच मिनट पूजा करनी है तो:- उपरोक्त के अलावा त्वमादि देवः पुरुषः पुराणः त्वमस्य विश्वस्य परम् निधानम्।वेत्तासि वैद्धम् च परं च धाम त्वया ततं विश्वमनन्त रूप।।वायुर्यमो अग्नि वरुणः शसांकः प्र्र्रजाप्रतिस्वां प्रपितामहष्च।नमो नमस्तेस्तु सहस्त्र कृत्व पुनष्च भूयोपि नमो नमस्ते ।। नमः पुरस्ता दत पृष्ट तस्ते नमोस्तुते सर्वत एव सर्व।अनन्तवीर्य मत विक्रमस्त्वं सर्व समाप्नोति ततोषि सर्व।।कायेन वाचा मनसैन्द्रियैर्वा बुद्ध आत्मना वा प्रकृति स्वभावात।करोमि यद्यत्सकलं परस्मै नारायणायेति समर्पयामि।। अच्यतं केशवं रामनारायणं, कृष्ण दामोदरं बासुदेवं हरिम। श्री धरं माधवं गोपिका बल्लभम् जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे।। हरे राम-2, राम राम, हरे-2, हरे कृष्ण-2 कृष्ण कृष्ण हरे हरे। कृष्ण कृष्ण हरे हरे। आपदामपहर्तारं दातारां सर्वसम्पदाम्। लोकाभिरामं श्रीरामं भूयो.भूयो नामाम्यहम्॥ नमः सभ्यवाय च मयो भवाय च। नमः शंकराय च मयस्कराय च।। नमः शिवाय च शिव तराय च । ऊँ शाम्भवे नमः तीन या पांच बार या सात बार जपेै। गायत्री मंत्र ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं । भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ॥ यानि कानि च पापानि जन्मान्तर कृतानि च। तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदक्षिण पदे पदे।। विष्णु श्लोक शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णम् शुभाङ्गम् । लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम् वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम् ॥ विस्तृत पूजा करनी है तो:- उपरोक्त के अलावा आत्म शुद्धि अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोऽपि वा। यः स्मरेत्पुंडरीकाक्षं स बाह्याभ्यंतरः शुचिः॥ हरिभक्तिविलस ३।३७ए गरुड़ पुराण दीप प्रज्जवलन भो दीपं त्वं ब्रह्मरूपं अन्धकार निवारकः इमां मया कृतां पूजां गृण्ह स्तेजः प्रवर्धयः ऊँ दीपेभ्यो नमः ऊँ श्री गणेशाय नमः। सर्व विध्न हरं देवं, सर्व विध्ननिवर्जितम् सर्व सिद्धि प्रदातारं वन्देहं गणनायकम्। ऊँ सुमुखश्चैक दन्तश्च कपिलो गजकर्णकः । लम्बोदरस्य विकटो विध्ननाशो विनायकः ।। धूम्र केतुर्गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजाननः । द्वादशैतानि नामानि यः पठेच्छृणुयादपि ।। विध्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा। संग्रामे संकटे चैव विघ्नतस्य न जायते।। श्रीमन्महागणाधिपतये नमः, लक्ष्मीनारायणाभ्यां नमः। उमामहेश्वराभ्यां नमः, वाणीहिरण्यगर्भाभ्यां नमः।। शचीपुरन्दराभ्यां नमः, मातृ पितृ चरण कमलेभ्यो नमः। इष्टदेवताभ्यो नमः कुलदेवताभ्यो नमः, ग्रामदेवताभ्यो नमः, स्थानदेवताभ्यो नमः।। एतत्कर्मप्रधानदेवताभ्यो नमः। सर्वेभ्यो देवेभ्यो नमः, सर्वेभ्यो ब्राह्मणेभ्यो नमः।। षोडशोपचार पूजन . 16 व्थ्थ्म्त्प्छळै आवाहनं ; पदअवबंजपवदद्ध समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः आसनं ;व्ििमतपदह ेमंजद्ध समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः स्नानं ;इंजीद्ध समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः वस्त्रं समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः चंदनं समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः अक्शतान् ;निसस नदइतवामद तपबमद्ध समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः पुष्पं समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः धूपं समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः दीपं समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः अच्मनियम् ;ूंजमत द्धसमर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः नैवेद्यं ;तिनपजद्ध समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः ताम्बूलं ;इमजमस समं िद्धसमर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमःण् श्री फलं ;बवबवदनजद्ध समर्पयामि श्रीगुरु चरण कमलेभ्यो नमः पुरुष सुक्तम् सहस्रशीर्षा पुरुषः सहस्राक्षः सहस्रपात् । स भूमिं विश्वतो वृत्वात्यतिष्ठद्दशाङुलम् ॥१॥ । आगच्छ भगवन देव स्थाने चात्र स्थिरो भवः। यावत्पूजां करिष्यामि तावत त्वं सन्निधौ भवः।। ऊँ एहि सूर्य सहस्त्रांषो तेजोराजे जगत्पते। अनुकम्पय मां भक्त्या गृहाणाध्र्य दिवाकर।। श्री राम वन्दना आदौ राम तपो वनादि गमनम् हत्वा मृगे कान्चनम्। वैदेही हरणम् जटायु मरणम् सुग्रीव सम्भाषणम्।। बाली निर्दलनम् समुद्र तरणं लंकापुरी दाहनम्। तत् पष्चात् रावण कुम्भकरण हननम् एतद्धि रामायणम्।। आपदामपहर्तारं दातारां सर्वसम्पदाम्। लोकाभिरामं श्रीरामं भूयो.भूयो नामाम्यहम्॥१॥ रामाय रामभद्राय रामचन्द्राय मानसे। रघुनाथाय नाथाय सीतायाः पतये नमः॥२॥ नीलाम्बुजश्यामलकोमलाङ्गं सीतासमारोपितवामभागम। पाणौ महासायकचारूचापं नमामि रामं रघुवंशनाथम॥३॥ स्वामी तुलसीदासकृत रामचरितमानस. अयोध्याकाण्डए श्लोक ३ श्री कृष्ण वन्दना त्वमादि देवः पुरुषः पुराणः त्वमस्य विश्वस्य परम् निधानम्।वेत्तासि वैद्धम् च परं च धाम त्वया ततं विश्वमनन्त रूप।।वायुर्यमो अग्नि वरुणः शसांकः प्र्र्रजाप्रतिस्वां प्रपितामहष्च।नमो नमस्तेस्तु सहस्त्र कृत्व पुनष्च भूयोपि नमो नमस्ते ।। नमः पुरस्ता दत पृष्ट तस्ते नमोस्तुते सर्वत एव सर्व।अनन्तवीर्य मत विक्रमस्त्वं सर्व समाप्नोति ततोषि सर्व।।कायेन वाचा मनसैन्द्रियैर्वा बुद्ध आत्मना वा प्रकृति स्वभावात।करोमि यद्यत्सकलं परस्मै नारायणायेति समर्पयामि।। अच्यतं केशवं रामनारायणं, कृष्ण दामोदरं बासुदेवं हरिम। श्री धरं माधवं गोपिका बल्लभम् जानकी नायकम् रामचन्द्रम् भजे।। हरे राम-2, राम राम, हरे-2, हरे कृष्ण-2 कृष्ण कृष्ण हरे हरे। कृष्ण कृष्ण हरे हरे। तीन या पांच बार या सात बार जपेै। नमः सभ्यवाय च मयो भवाय च। नमः शंकराय च मयस्कराय च।। नमः शिवाय च शिव तराय च । ऊँ शाम्भवे नमः दुर्गा श्लोक एहि दुर्गे महाभागे रक्षार्थ मम सर्वदा आवावयाम्यहं दवि सर्वकामार्थ सिद्धये। या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः। सर्वरूपमयी देवी सर्व देवी मयं जगत्। अतोइहं विश्वरूपां त्वां नमामि परमेश्वरीम।। सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥ ऽ श्रीदुर्गाष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम् ऽ सती साध्वी भवप्रीता भवानी भवमोचनी। आर्या दुर्गा जया चाद्या त्रिनेत्रा शूलधारिणी ॥2॥ पिनाकधारिणी चित्रा चण्डघण्टा महातपारू। मनो बुद्धिरहंकारा चित्तरूपा चिता चितिरू ॥3॥ सर्वमन्त्रमयी सत्ता सत्यानन्दस्वरूपिणी। अनन्ता भाविनी भाव्या भव्याभव्या सदागतिरू ॥4॥ शाम्भवी देवमाता च चिन्ता रत्नप्रिया सदा। सर्वविद्या दक्षकन्या दक्षयज्ञविनाशिनी ॥5॥ अपर्णानेकवर्णा च पाटला पाटलावती। पट्टाम्बरपरीधाना कलमञ्जीररञ्जिनी ॥6॥ अमेयविक्रमा क्रूरा सुन्दरी सुरसुन्दरी। वनदुर्गा च मातङ्गी मतङ्गमुनिपूजिता ॥7॥ ब्राह्मी माहेश्वरी चैन्द्री कौमारी वैष्णवी तथा। चामुण्डा चैव वाराही लक्ष्मीश्च पुरुषाकृतिरू ॥8॥ विमलोत्कर्षिणी ज्ञाना क्रिया नित्या च बुद्धिदा। बहुला बहुलप्रेमा सर्ववाहनवाहना ॥9॥ निशुम्भशुम्भहननी महिषासुरमर्दिनी। मधुकैटभहन्त्री च चण्डमुण्डविनाशिनी ॥10॥ सर्वासुरविनाशा च सर्वदानवघातिनी। सर्वशास्त्रमयी सत्या सर्वास्त्रधारिणी तथा ॥11॥ अनेकशस्त्रहस्ता च अनेकास्त्रस्य धारिणी। कुमारी चैककन्या च कैशोरी युवती यतिरू ॥12॥ अप्रौढा चैव प्रौढा च वृद्धमाता बलप्रदा। महोदरी मुक्त केशी घोररूपा महाबला ॥13॥ अग्निज्वाला रौद्रमुखी कालरात्रिस्तपस्विनी। नारायणी भद्रकाली विष्णुमाया जलोदरी ॥14॥ शिवदूती कराली च अनन्ता परमेश्वरी। कात्यायनी च सावित्री प्रत्यक्षा ब्रह्मवादिनी ॥15॥ द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम् सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्। उज्जयिन्यां महाकालमोङ्कारममलेश्वरम्॥परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमशङ्करम्। सेतुबन्धे तु रामेशं नागेशं दारुकावने॥ वाराणस्यां तु विश्वेशं त्र्यम्बकं गौतमीतटे। हिमालये तु केदारं घुश्मेशं च शिवालये॥एतानि ज्योतिर्लिङ्गानि सायं प्रातः पठेन्नरः। सप्तजन्मकृतं पापं स्मरणेन विनश्यति॥ एतेशां दर्शनादेव पातकं नैव तिष्ठति। कर्मक्षयो भवेत्तस्य यस्य तुष्टो महेश्वराः॥ ध्येयः सदा सवितृमण्डल मध्यवर्ती। नारायणः सरसिजासन सन्निविष्ठ।। केयूरवान मकर कुण्डलवान किरीटी। हारी हिरण्मय वपु र्धृत शंख चक्रः।। शिव पञ्चाक्षर नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांगरागाय महेश्वराय। नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै न काराय नमरू शिवाय ॥1॥ मन्दाकिनी सलिल चन्दन चर्चिताय नन्दीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय। मन्दारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय तस्मै म काराय नमरू शिवाय ॥2॥ शिवाय गौरी वदनाब्ज वृन्द सूर्याय दक्षाध्वर नाशकाय। श्रीनीलकण्ठाय वृषध्वजाय तस्मै शि काराय नमरू शिवाय ॥3॥ वसिष्ठ कुम्भोद्भव गौतमार्य मुनीन्द्रदे वार्चित शेखराय। चन्द्रार्क वैश्वानरलोचनाय तस्मै व काराय नमरू शिवाय ॥4॥ यक्षस्वरूपाय जटाधराय पिनाकहस्ताय सनातनाय। दिव्याय देवाय दिगम्बराय तस्मै य काराय नमरू शिवाय ॥5॥ पंचाक्षरमिदं पुण्यं यरू पठेत शिव सन्निधौ। शिवलोकम अवाप्नोति शिवेन सह मोदते ॥6॥ इति शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रं सम्पूर्णम् श्री रूद्र अष्टकम दृ नमामीश मीशान निर्वाणरूपं विभुं व्यापकं ब्रह्मवॆद स्वरूपम् । निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं चदाकाश माकाशवासं भजॆहम् ॥ निराकार मॊङ्कार मूलं तुरीयं गिरिज्ञान गॊतीत मीशं गिरीशम् । करालं महाकालकालं कृपालं गुणागार संसारसारं नतॊ हम् ॥ तुषाराद्रि सङ्काश गौरं गम्भीरं मनॊभूतकॊटि प्रभा श्रीशरीरम् । स्फुरन्मौलिकल्लॊलिनी चारुगाङ्गं लस्त्फालबालॆन्दु भूषं महॆशम् ॥ चलत्कुण्डलं भ्रू सुनॆत्रं विशालं प्रसन्नाननं नीलकण्ठं दयालुम् । मृगाधीश चर्माम्बरं मुण्डमालं प्रियं शङ्करं सर्वनाथं भजामि ॥ प्रचण्डं प्रकृष्टं प्रगल्भं परॆशम् अखण्डम् अजं भानुकॊटि प्रकाशम् । त्रयी शूल निर्मूलनं शूलपाणिं भजॆहं भवानीपतिं भावगम्यम् ॥ कलातीत कल्याण कल्पान्तरी सदा सज्जनानन्ददाता पुरारी । चिदानन्द सन्दॊह मॊहापकारी प्रसीद प्रसीद प्रभॊ मन्मधारी ॥ न यावद् उमानाथ पादारविन्दं भजन्तीह लॊकॆ परॆ वा नाराणाम् । न तावत्सुखं शान्ति सन्तापनाशं प्रसीद प्रभॊ सर्वभूताधिवास ॥ नजानामि यॊगं जपं नैव पूजां नतॊ हं सदा सर्वदा दॆव तुभ्यम् । जराजन्म दुःखौघतातप्यमानं प्रभॊपाहि अपन्नमीश प्रसीद! ॥ रुद्राष्टकमिदंम फरोक्त विप्रेण हरातोषये ये पठंति भक्त्या तेषाम शंभूरू प्रसीदती ॥ ॥ ईति श्री गोस्वामि तुलसीदास कृतं श्री रुद्राष्टकम संपूर्णम ॥ गायत्री मंत्र ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं । भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ॥ ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात्पुर्णमुदच्यते पूर्णश्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ विष्णु श्लोक शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णम् शुभाङ्गम् । लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम् वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम् ॥ महामृत्युन्जय मंत्र ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥ अकाल मृत्यु हरणं सर्वव्याधि विनाशनम् विष्णु पादोदकंपीत्व पुनर्जन्म न विधते। मूकं करोति वाचालं पङ्गुं लङ्घयते गिरिं । यत्कृपा तमहं वन्दे परमानन्द माधवम् त्वमेव माता च पिता त्वमेव । त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव । त्वमेव विद्या द्रविणम् त्वमेव । त्वमेव सर्वम् मम देव देव ॥ पपोहं पापकर्माहं पापात्मा पापसंभवः। त्राहिमां पुण्डरीकाक्ष सर्वपाप हरो भवः।। कृष्णाय वासुदेवाय देवकी नन्दनाय च। नन्द गोप कुमाराय गोविन्दाय नमो नमः।। जेहि विधि नाथ होई हित मोरा। करहुं सुबेगि दास मैं तेरा।। जे सकाम नर सुनहि जे गावहि। सुख संपति नाना विधि पावहि।। मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जर्नादनं यत्पूजितं मयादेव परिपूर्णम् तदस्तुमे। आवहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम् पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वरं।। अन्यथा शरणं नास्ति त्वमेव शरणं मम्। तस्मात् कारूण्यभावेन रक्ष मां परमेश्वर।। अकाल मृत्यु हरणं सर्वव्याधि विनाशनम् सूर्यपादोदक्र तीर्थं जठरे धारयाम्यहम। ऊँ भद्रं कर्णेभिः श्रणुयाम देवा, भद्रम्पश्येमाक्षभिर्यजन्त्रा । स्थिरै रंग स्तुष्टुवां सस्तनुभि व्र्यषेमहि देवहितं यदायु ।। भद्रोनो अग्निराहुतो भद्रा राति सुभग भद्रो अव्वरः रूद्रा उत्त प्रशस्ता ऊँ असतो मां सदगमयः। तमस्ते मां ज्योतिर्गमयः।। मृत्योर्मां अमृतं गमयः। ऊँ द्यौः शान्ति अन्तरिक्ष शान्ति पृथ्वी शान्ति रापः शान्ति रौषद्ययः शान्ति। वनस्पतयः शान्ति, शान्तिर्विश्वेदेवाः शान्ति ब्रहम् शान्ति सर्वशान्ति।। शान्तिरेव शान्ति सा मा शान्ति रेधि। ऊँ विश्वानिदेव सवितर्दुरितानि पराशुव, यद्भद्रं तन्नआसुव।। यानि कानि च पापानि जन्मान्तर कृतानि च। तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदक्षिण पदे पदे।। - ऊॅं हनुमान चालीसा आरती३ॐ जय जगदीश हरे३ स्वामी जय श्रीरामचंद्र कृपालु भजु मन हरि हि ऊँ । वैकल्पिक रूप से दुर्गासप्तशती का पाठ एक पूरी पूजा है ,दुर्गासप्तशती का पाठ कवच प्रत्येक देवी भक्त को पढ़ना चाहिए। संपूर्ण पाठ न करने वाले मनुष्य देवी कवच, अर्गलास्तोत्र, कीलकम का पाठ करके देवी सूक्तम पढ़ सकते हैं।मातृशक्ति इच्छाओं को पूरा करने साथ-साथ बुरे विचार, आचरण और दुर्जनों का नाश करती है। दुर्गा सप्तशती महर्षि वेदव्यास रचित मार्कण्डेय पुराण का अंश है । पाठ मनोरथ सिद्धि के लिए किया जाता है, क्योंकि यह कर्म, भक्ति एवं ज्ञान की त्रिवेणी है। मन्वतर के देवी महात्म्य के 700 श्लोक का एक भाग है। दुर्गा सप्तशती में अध्याय एक से तेरह तक तीन चरित्र विभाग हैं। इसमें 700 श्लोक हैं।दुर्गा-सप्तशती को दुर्गा-पाठ, चंडी-पाठ से भी संबोधित करते हैं।पहले कवच रूप बीज का, फिर अर्गला रूपा शक्ति का तथा अन्त में कीलक रूप कीलक का क्रमशः पाठ होना चाहिए।॥

==================================

टिप्पणियां



आपका नाम  
संपर्क नम्बर  
विचार  
   


Copyright © Hindupurohitsangh.in