Hindu Purohit Sangh
शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान
पंजीयन
पुरोहित चर्चा क्षेत्र
पुरोहित चर्चा क्षेत्र
हिन्दू धर्म
हिन्दू मन्दिर
हिन्दू वेद
हिन्दू शिशु नाम
हिन्दू पंचांग एवं पर्व
हिन्दू धार्मिक स्थल
पूजा सामग्री
विषय अनुसार चर्चा क्षेत्र

शीर्षक

Om Shanti, Sadgati Mile, सद्गति मिले , मोक्ष शांति, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे, या ओम शांति--Not Rest in Peace (RIP)


विवरण

मोक्ष शांति है जीवन का लक्ष्य - The Hindus, Buddhists, Jains or Sikhs (hindic religions हिन्दवी धर्म ) belong to a religion that believes in reincarnation. But when a person dies some of the Hindus also also write Rest In Peace (RIP). Most Indian's have NO CLUE at all about that RIP is only a Christian thing. Or maybe we've been influenced by the West so much that we tend to take up their sayings and mannerisms? For example "RIP" implies that the person is going to sleep/rest in their graves until the day Jesus/ Al-Mahadi comes back and resurrects their body. Body is central to the A-brahmic belief system, hence the burial- which is a form of preservation (of sorts) and belief that it'll be alright once again. Hindu Dharma the body is just a vehicle, a temporary refuge - while the aatman carries on its journey with reincarnations, until the day its Karmic path and spiritual knowledge leads it to Moksha. Reincarnation is kind of a punishment in Hinduism. An atma has to take birth again and again in different yonis till it attains moksha - when it gets free from this cycle of birth and rebirth. So Iswar unki aatma ko shanti dey, 'Sadgati Mile' सद्गति मिले , मोक्ष शांति, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे, या ओम शांति या आत्मा शांति हो, should be the prey for departed souls for Hindic religions. So when somebody dies, Hindus wish that his atma attains moksha / shanti. Thus Hindus do not construct graves.

==================================

टिप्पणियां

What is Rest in Peace (RIP)?आजकल देखने में आया है किसी के भी दिवंगत होने पर RIP लिखने का प्रचलन सा हो गया चल है..यह अज्ञानता के कारण हमारे युवाओं को हिंदू धर्म की मूल अवधारणाओं के ज्ञान की कमी की कारण है । RIP शब्द का अर्थ होता है "Rest in Peace" (शान्ति से आराम करो).. यह शब्द उनके लिए उपयोग किया जाता है जिन्हें कब्र में दफनाया गया हो.. क्योंकि ईसाई अथवा मुस्लिम मान्यताओं के अनुसार जब कभी "जजमेंट डे" अथवा "क़यामत का दिन" आएगा, उस दिन कब्र में पड़े ये सभी मुर्दे पुनर्जीवित हो जाएँगे... अतः उनके लिए कहा गया है, कि उस क़यामत के दिन के इंतज़ार में "शान्ति से आराम करो"..लेकिन हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार शरीर नश्वर है, आत्मा अमर है.. हिन्दू मृतक को जला दिया जाता है, अतः उसके "Rest in Peace" का सवाल ही नहीं उठता.. हिन्दू धर्म के अनुसार मनुष्य की मृत्यु होते ही आत्मा उसे छोड़कर किसी दूसरे नए जीव/काया/शरीर/नवजात में प्रवेश कर जाती है... उस आत्मा को अगली यात्रा हेतु गति प्रदान करने के लिए ही श्राद्धकर्म की परंपरा का निर्वहन किया जाता है.. अतः किसी हिन्दू मृतात्मा हेतु ॐ शांति , मोक्ष शांति , श्रद्धांजलि,आत्मा को सद्गति मिले जैसे वाक्य विन्यास लिखे जाने चाहिए.. जबकि किसी मुस्लिम अथवा ईसाई मित्र के परिजनों की मृत्यु पर उनके लिए RIP लिखा जा सकता है.

देवेंद्र ओली द्वारा पोस्ट



आपका नाम  
संपर्क नम्बर  
विचार  
   


Copyright © Hindupurohitsangh.in